राजनीति

मामा का नया स्टाइल! खराब मौसम की वजह से सभा स्थल नहीं पहुंच पाए शिवराज, लोगों को ऐसे किया संबोधित

मामा का नया स्टाइल! खराब मौसम की वजह से सभा स्थल नहीं पहुंच पाए शिवराज, लोगों को ऐसे किया संबोधित


मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जन नेता माना जाता है। जनता के बीच उनकी सक्रियता लगातार देखने को मिलती है। वह हर रोज जनता के बीच रहते हैं और उनसे संवाद करते हैं। यही कारण है कि मध्य प्रदेश में उन्हें मामा शिवराज सिंह चौहान कहा जाता है। शिवराज सिंह चौहान आज बालाघाट के केंदा टोला पहुंचने वाले थे। हालांकि, खराब मौसम की वजह से उनका हेलीकॉप्टर उड़ान नहीं भर सका। फिर क्या था, मामा अपने स्टाइल में आ गए। उन्होंने फोन से ही सभा स्थल पर मौजूद लोगों को संबोधित कर दिया। हालांकि, खुद नहीं पहुंच पाने के लिए उन्होंने ग्राम वासियों से माफी भी मांगी और वादा किया कि वह अवश्य उनके बीच आएंगे।

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं के लिए उम्र सीमा तीन वर्ष बढ़ाई गई : मुख्यमंत्री चौहान

हेलीपैड शिवराज सिंह चौहान लोगों को संबोधित करने लगे। उन्होंने कहा कि मेरे मलाजखण्ड के भाइयों-बहनों, आपके बीच आज नहीं आ पाने के कारण हृदय की गहराइयों से क्षमा मांगता हूं। आपसे अनुरोध करता हूं कि आप अपना आशीर्वाद देकर भारतीय जनता पार्टी की नगर पालिका बनाइये। मैं आपको वचन देता हूं कि आपके विश्वास को कभी टूटने नहीं दूंगा। उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान का उद्देश्य है कि आपको योजनाओं का लाभ सरलता से प्राप्त हो। केंदाटोला के मेरे भाइयों-बहनों, विपरीत मौसम के कारण मैं आपके बीच आज उपस्थित नहीं हो सका, इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूं। मैं शीघ्र ही आपके बीच आऊंगा।

इसे भी पढ़ें: हिंदुओं के धर्म गुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद का 99 साल की उम्र में निधन, लंबे वक्त से थे बीमार, PM मोदी ने जताया शोक

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह जो मुख्यमंत्री जनसेवा शिविर लगाये जा रहे हैं, इसका एक ही उद्देश्य है कि जनता को योजनाओं का लाभ लेने के लिए सरकारी ऑफिसों में न जाना पड़े, उनके पंचायत में शिविर लगे और अधिकारी एवं सरकार आये तथा जनता को योजनाओं का लाभ प्रदान करे। इससे पहले शिवराज छिंदवाड़ा में थे जहां उन्होंने कहा कि सौंसर की जनता को मैं आज यह वचन देना चाहता हूँ कि चाहे कॉलोनियों में मिनी गार्डन हों, सुविधायुक्त आंगनबाड़ी हो, शहर के बस स्टैंड को फिर से बनाने का मामला हो। अलग-अलग जितने भी काम आपने सोचे हैं, उनको पूरा करने के लिए पैसे की कमी नहीं आने दूँगा।

Related Articles

Back to top button
Close