खेल

पोल वॉल्टर’ रॉसी मीना और भारोत्तोलक अजीत राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाकर चमके

पोल वॉल्टर’ रॉसी मीना और भारोत्तोलक अजीत राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाकर चमके

तमिलनाडु की ‘पोल वॉल्टर’ रॉसी मीना पॉलराज और उनके ही राज्य के भारोत्तोलक एन अजीत (73 किग्रा) ने शनिवार को यहां राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाते हुए 36वें राष्ट्रीय खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर सुर्खियां बटोरीं। रॉसी मीना पॉलराज (24 साल) उम्मीद के उलट एथलेटिक्स स्पर्धा की स्टार रहीं। उन्होंने राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ते हुए 4.20 मीटर से स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने इस तरह वीएस सुरेखा के 2014 में बनाये गये 4.15 मीटर के राष्ट्रीय रिकॉर्ड को तोड़ दिया।

तमिलनाडु की उनकी दो साथी पविता वेंगाटेश (चार मीटर) और बारानिका इलांगोवान (3.90 मीटर) ने क्रमश: दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया। अजीत ने पुरूषों के 73 किग्रा वर्ग में क्लीन एवं जर्क में 174 किग्रा का भार उठाकर रिकॉर्ड तोड़ा और अचिंता शेयुली के पहले के 173 किग्रा के रिकॉर्ड को पछाड़ दिया। अजीत ने कुल 315 किग्रा (स्नैच 141, क्लीन एवं जर्क 174) का वजन उठाकर स्वर्ण पदक जीता।

बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सेना के अचिंता ने 295 किग्रा वजन से रजत और केरल के बी देवाप्रीधन ने 290 किग्रा के वजन से कांस्य पदक प्राप्त किया। लंबी कूद स्पर्धा में तमिलनाडु के जेसविन एल्ड्रिन ने केरल के राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता मुरली श्रीशंकर को पछाड़कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया और 2023 विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के लिये क्वालीफाई किया। एल्ड्रिन ने अपने छठे और अंतिम प्रयास में 8.26 मीटर की कूद लगायी और विश्व चैम्पियनशिप के 8.25 मीटर के ‘क्वालीफाइंग मार्क’ को पार किया।

उन्होंने दो अन्य प्रयासों में भी आठ मीटर से ज्यादा (8.07 मीटर और 8.21 मीटर) की कूद लगायी। अगस्त में बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेलों का रजत पदक जीतने वाले श्रीशंकर की सर्वश्रेष्ठ कूद 7.93 मीटर की रही जो उनके पहले प्रयास में आयी थी। उन्होंने 7.55 मीटर की एक और कूद लगाने के बाद बाकी चार प्रयास नहीं करने का फैसला किया। एक अन्य लंबी कूद के शीर्ष एथलीट केरल के मोहम्मद अनीस याहिया 7.92 मीटर से तीसरा स्थान हासिल किया।

वहीं 100 मीटर की स्पर्धा में असम के अमलान बोरगोहेन ने पुरूषों के वर्गमें जबकि आंध्र प्रदेश की ज्योति याराजी ने महिलाओं के वर्ग का स्वर्ण पदक अपने नाम किया। ज्योति के नाम 100 मीटर बाधा दौड़ का राष्ट्रीय रिकॉर्ड है लेकिन उन्होंने दुती चंद (ओडिशा) और हिमा दास (असम) को पछाड़ते हुए 11.51 सेकेंड से महिलाओं की 100 मीटर स्पर्धा में पहला स्थान हासिल किया जबकि तमिलनाडु की अर्चना सुसींद्रन (11.55 सेकेंड) और महाराष्ट्र की डायंड्रा वालाडारेस (11.62 सेकेंड) ने क्रमश: रजत और कांस्य पदक जीते।

राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारी दुती 11.69 सेकेंड के समय से छठे और हिमा 11.74 सेकेंड के समय से सातवें स्थान पर रहीं। ज्योति ने कहा, ‘‘ उन्होंने (दुती और हिमा) ने हमेशा मुझे प्रोत्साहित किया जिसके लिये मैं उनका धन्यवाद करती हूं। मैं खुश हूं कि मैं जीत गयी लेकिन ऐसा मत समझिये कि मैंने उन्हें पछाड़ दिया।’ पुरूषों की 100 मीटर स्पर्धा में बोरगोहेन ने 10.38 सेकेंड से पहला स्थान प्राप्त किया। तमिलनाडु के इलाकियादासान वीके (10.44 सेकेंड) और सिवा कुमार बी (10.48 सेकेंड) क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे।

तेजिंदरपाल सिंह तूर (सेना) और मोहम्मद अजमल (केरल) ने क्रमश: पुरूषों की गोला फेंक और 400 मीटर रेस स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीता। गुजरात की महिला टेनिस टीम ने महाराष्ट्र को हराकर राष्ट्रीय खेलों का स्वर्ण पदक बरकरार रखा। उसके लिये अंकिता रैना और वैदेही चौधरी ने युगल मुकाबले में 2-4 से पिछड़ने के बाद जीत दर्ज की। अंकिता रैना ने इससे पहले ‘करो या मरो’ के दूसरे एकल मुकाबले में रूतुजा भोंसले को शिकस्त दी।

तेलंगाना की निशानेबाज ईशा सिंह ने महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा का स्वर्ण पदक अपने नाम किया। क्वालीफिकेशन में वह 584 अंक से ओलंपियन मनु भाकर (हरियाणा) से एक अंक आगे रहीं। फिर उन्होंने 26 अंक से पहला स्थान हासिल किया। रिदम सांगवान ने 25 अंक से दूसरा और अभिदन्या पाटिल ने 19 अंक से तीसरा स्थान प्राप्त किया।

Related Articles

Back to top button
Close